9414082007 drarunbhati81@gmail.com

Breast Abscess

परिचय :नारी पुरुष का दर्पण है यदि नारी स्वस्थ है तो सारा समाज स्वस्थ है, घर परिवार स्वस्थ है,; यदि नारी अस्वस्थ है तो परिवार स्वस्थ हो क्या सुखी भी नहीं रह सकता।
आजकल नारियों में अत्यंत दुखदाई स्तन विद्रधि (Breast Abscess) रोग बहुतायत में देखने को मिल रहा है। यह अत्यंत कष्टदायक रोग है जो प्राय: प्रसूता और प्रसव के पूर्व स्त्रियों को हो जाता है। यह गर्भवती या प्रसूता नारियों की खुली हुई (विवृत) दुग्ध वाहिनी शिराओं को प्रभावित करके स्तनों में कठोरता व तनाव युक्त शोथ उत्पन्न करता है। इसे mammary gland abscess या breast abscess भी कहते हैं।

प्रमुख कारण:

            स्तन विद्रधी रोग के निम्न प्रमुख कारण है-

  • दोषों के कुपित होने से
  • शिराओं (Ducts) में दूध भर जाने से
  • शिशु के द्वारा संपूर्ण दुग्ध का पान न कर पाने से
  • Nipples में आघात से
  • शोथ (Inflammation) से
  • Bacterial infection
    (According to modern science it is usually caused by highly viral and strain of penicillin resistant staphylococcus aureus and anaerobic streptococci.)
  • बहुत कसे हुए अंतर्वस्त्रों के धारण करने से या Unhygienic Behavior से .

उपरोक्त कारणों से स्तन विद्रधी रोग उत्पन्न होता है।

Breast Abscess

उपचार

  • पूर्ण आराम एवं स्तनों को सहारा(support) तथा दोनों स्तनों से स्तनपान को जारी रखना चाहिए लेकिन बड़ी विद्र्धि होने पर स्तनपान नहीं करवाना चाहिए ।
  • (बड़ी abscess होने पर शल्यक्रिया ही एकमात्र उपचार है) लेकिन छोटी abscess होने पर दवाओं द्वारा उपचार किया जा सकता है।
  • स्तन विद्र्धी में दशांग लेप का प्रयोग चमत्कारिक परिणाम देता है इसके अलावा आरोग्यवर्धिनी वटी, प्रताप लंकेश्वर रस, शोथारी लौह आदि का उपयोग भी लाभदायक है।

स्तन विद्राधि में उपयोग आने वाले कुछ घरेलू उपाय आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करके देख सकते हैं।

स्तन विद्र्धि में पथ्य के रूप में ब्रह्मचर्य का पालन करना, स्तनों को आघात से बचा कर रखना, कफ कारक चीजों का सेवन नहीं करना, दुग्ध वर्धक आहार का सेवन न करना अरबी, भिंडी, चावल, दूध तथा दही नहीं खाना चाहिए।

मातृ शक्ति को स्तन विद्राधि (Breast Abscess) से जागरूकता अभियान की कड़ी में AYURVEDACHIKITSA प्रयास

This Post Has 2 Comments

  1. It is breif and meaning full please continue thanks

Leave a Reply

Close Menu
×